समर्थक

गुरुवार, 25 दिसंबर 2014

"दिल के अरमाँ आँसुओं में बह गये..." (कार्टूननिस्ट-मयंक)

ऐसे न निराश करो मन को..!

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों से ऊर्जा मिलती है!
परन्तु कभी-कभी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं।
जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।