समर्थक

रविवार, 30 दिसंबर 2012

"जन-जन की है यही पुकार" (कार्टूननिस्ट-मयंक)

2 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. बलात्कार की बढ़ रही घटनाओं को ध्यान में रखते हुए इस दिशा में कुछ ठोस व सशक्त कानून बनाना ही होगा तभी इस तरह के मामलो में कमी आ सकती है, अन्यथा नहीं |

      नये साल पर कुछ बेहतरीन ग्रीटिंग आपके लिए

      हटाएं

आपकी टिप्पणियों से ऊर्जा मिलती है!
परन्तु कभी-कभी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं।
जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।