समर्थक

मंगलवार, 27 नवंबर 2012

"बड़ी मुश्किल में हूँ, मैं किधर जाऊँ...!" (कार्टूननिस्ट-मयंक खटीमा)

मैं इधर जाऊँ या उधर जाऊँ...!

5 टिप्‍पणियां:

  1. राष्ट्रवाद की तरफ या, 'बहू'-राष्ट्र की ओर ।

    यह बैठूं निरपेक्ष गुट, जैसे बैठ करोर ।

    जैसे बैठ करोर, हमें नृप से क्या हानी ।

    गवर्नमेंट सर्वेंट, छोड़ ना होउब रानी ।

    एक ऑप्शन और, बात यह बहुत बाद की ।

    जीतेगा उन्माद, हार हो राष्ट्रवाद की ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वोटरों का धर्म संकट इसी के चलते बहुत से लोग वोट देने ही नहीं जाते वैसे इस बार नई पार्टी को आजमाना चाहिए ---बढ़िया कार्टून

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (28-11-12) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर चौराहा भूल भुलैया ,है वोटर के वास्ते |
    चुनें कौन सा जायें किधर हम, सभी एक से रास्ते ||

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों से ऊर्जा मिलती है!
परन्तु कभी-कभी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं।
जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।