समर्थक

रविवार, 25 नवंबर 2012

"सोच-समझकर बोलो..बाबा..!" (कार्टूनिस्ट-मयंक)

सोच-समझकर बोलो..बाबा..!

5 टिप्‍पणियां:

  1. There is truth ...cricket is only for entertainment ,certainly not a productive activity generating wealth for the country

    उत्तर देंहटाएं
  2. घूमे पहले दिवस से, पिच बाम्बे में मांग ।
    धोनी गड्ढे खोद के, फंसा बैठते टांग ।


    फंसा बैठते टांग, टांग बल्ला खूँटी पर ।
    नामी बल्लेबाज, बाज नहिं आते रविकर ।


    बेहतर हैं अंग्रेज, जीत का मैडल चूमें ।
    दो दिन धोनी टीम, मुंबई पूरा घूमे ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाबा बोलेगे अब लोग कैसा समझते है उससे बाबा का का लेना देना
    drnbhashyam से सहमत्

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों से ऊर्जा मिलती है!
परन्तु कभी-कभी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं।
जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।