समर्थक

बुधवार, 28 नवंबर 2012

"गंगा और भी मैली हो गयी..." (कार्टूननिस्ट-मयंक खटीमा)

कार्तिक पूर्णिमा (गंगास्नान)

5 टिप्‍पणियां:

  1. वस्तुत: शीर्षक होना चाहिये "राम तेरी गंगा और भी मैली हो गयी
    "

    आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर कार्टुन...राम तेरी गंगा मैली हो गई पापियो के पाप धोते....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों से ऊर्जा मिलती है!
परन्तु कभी-कभी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं।
जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।